Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

6/recent/ticker-posts

88 वा वायुसेना दिवस

 ✔️ STUDY FOR CIVIL SERVICE की तरफ से 88 वें वायुसेना दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।


✔️ ♻️8 अक्टूबर 1932 को वायुसेना की स्थापना की गई थी इसीलिए प्रत्येक वर्ष 8 अक्टूबर को वायुसेना दिवस मनाया जाता है। आजादी से पहले वायु सेना, आर्मी के तहत ही काम करती थी। वायुसेना को आर्मी से 'अलग' करने का श्रेय भारतीय वायु सेना के पहले कमांडर इन चीफ, एयर मार्शल सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट को जाता है। स्वतंत्रता के बाद सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट को भारतीय वायु सेना का पहला चीफ, एयर मार्शल बनाया गया था। 


✔️♻️ भा आदर्श वाक्य है- 'नभ: स्पृशं दीप्तम'। यह गीता के 11वें अध्याय से लिया गया है। वायुसेना ध्वज, नीले रंग का है जिसके शुरुआती एक चौथाई भाग में राष्ट्रीय ध्वज बना है और बीच के हिस्से में राष्ट्रीय ध्वज के तीनों रंगों अर्थात्‌ केसरिया, श्वेत और हरे रंग से बना एक वृत्त है। यह ध्वज 1951 में अपनाया गया था।




भारतीय वायुसेना से जुड़े परीक्षापयोगी महत्वपूर्ण बिंदु

✔️✔️क्यों मनाया जाता है?✔️✔️

⭕8 अक्टूबर 1932 को वायुसेना की स्थापना की गई थी। इसलिए हर साल 8 अक्टूबर को वायुसेना स्थापना दिवस मनाया जाता है। 


⭕भारतीय वायु सेना इस साल 8 अक्टूबर 2020 को अपनी 88 वीं वर्षगांठ मनाने जा रही है। इस मौके पर वायु सेना के अलग-अलग विमान हवा में प्रदर्शन दिखाएंगे। 


⭕देश को आजादी मिलने के बाद वर्ष 1950 में इसका नाम रॉयल एयरफोर्स की जगह भारतीय वायुसेना दिया गया। 


⭕भारत के पहले एयरफोर्स प्रमुख सुब्रतो मुखर्जी थे। 


⭕भारतीय वायुसेना (आईएएफ) में भारत के राष्ट्रपति कमांडर की प्रमुख भूमिका निभाते हैं। 


⭕भारतीय वायु सेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 को अंग्रेजों ने की थी। 


⭕वायु विमानों का भारतीय वायुसेना का पहला मिशन 1 अप्रैल 1933 को पाँच भारतीय पायलटों द्वारा पश्चिम-लाइन वैपिटी बायप्लेन्स द्वारा आयोजित किया गया था। 


⭕भारतीय वायुसेना को पाकिस्तान के साथ चार युद्ध और चीन के साथ एक युद्ध में शामिल किया गया है। 


⭕वायु सेना ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापानी सेना को बर्मा में रोककर सक्रिय भूमिका निभाई थी। 


⭕भारतीय वायुसेना के ध्वज की तो वायुसेना ध्वज, वायु सेना निशान से पृथक, नीले रंग का है। जिसके प्रथम एक चौथाई भाग में राष्ट्रीयध्वज बना हुआ है। 


⭕भारतीय वायुसेना में शामिल हुए राफेल लड़ाकू विमान इस साल होने वाले वायुसेना दिवस परेड के दौरान जगुआर के साथ मिलकर 'विजय' फार्मेशन में उड़ान भरेगा।


⭕इसके बाद राफेल सुखोई-30 एमकेआई और तेजस लड़ाकू विमान के साथ मिलकर 'ट्रांसफार्मर' फार्मेशन में उड़ान भरेगा।

  

⭕वायुसेना ने बताया कि इस वर्ष वायुसेना दिवस परेड के दौरान 19 हेलीकॉप्टरों के साथ 19 लड़ाकू और 7 परिवहन विमान सहित 56 विमान हवाई प्रदर्शन में भाग लेंगे।


✔️✔️भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमान


✴️आईएएफ का मुख्य विमान मिग 29 है जिसे बाज़ (ENGLISH में हॉक) कहा जाता है। यह वर्ष 2007 में विमान के उन्नयन के साथ शुरू हुआ।  

भारत ने बाद में फ्रांस के साथ इस समझौते को अंतिम रूप देने के लिए 

✴️भारत के मिराज (जिसे वजरा के रूप में जाना जाता है) 2000H को नए रडार सिस्टम और हथियार सूट के साथ मिराज 2000-5 एमके 2 संस्करण में अपग्रेड करने के लिए अंतिम रूप दिया। 


✴️सेपेकैट जगुआर, मिराज 2000 के अलावा आईएएफ के सबसे पसंदीदा विमान में से एक हैं। 


✴️एचएएल ने 1983 में लाइट लड़ाकू विमान बनाया, जिसने भारत के मिग 21 को विकसित और बदल 

दिया। 


✴️इन उन्नत स्वदेशी लड़ाकू विमानों के साथ युद्धपोतों की एक श्रृंखला के बाद, उन्हें हेल तेजास के नाम से 

नामित किया गया। . तबसे, TEJAS अंतिम परिचालन निकासी के लिए आईएएफ में है। 


✴️वीआईपी परिवहन कर्तव्यों के लिए, आईएएफ के उपयोग के लिए दो एयर इंडिया बोइंग 777-300 

ईआर है।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां